latest Post

मुरली से लेके सुदर्शन तक  कृष्ण जी के साथ रहे ये 6 उपहार  





कृष्ण को पिता, गुरु और सखी से मिले उपहार उनके व्यक्तित्व से जुड़ते गए। 13 की उम्र तक उन्हें ऐसी 6 चीजें मिल चुकी थीं। कृष्ण ने इन्हें अंत तक अपने निकट रखा... 
Shree Krishana
Shree Krishana 


  • बांसुरीनंदबाबा ने गोकुल में कृष्ण को बांसुरी दी। तब कृष्ण तीन-चार साल के थे। यह उनका सबसे प्यारा खिलौना बन गया। यही बांसुरी कृष्ण की जीवनभर की संगनी बनी। 
बांसुरी
बांसुरी
  • मोरपंखकृष्ण आठ-दस साल के थे तो रासलीला के लिए वृंदावन गए। यहीं पहली बार राधा ने मुकुट पर मोरपंख लगाया था। कृष्ण ने स्त्री के इस सृजन को हमेशा के लिए मस्तक पर जगह दी। 
मोरपंख
मोरपंख

  • वैजयंती मालाकृष्ण ने जब पहली बार रासलीला खेली थी, तब राधा ने उन्हें वैजयंती माला पहनाई थी। उम्र आठ-दस साल थी। वैजयंती माला यानी -'विजय दिलाने वाली माला।' 
वैजयंती माला
वैजयंती माला
  • अजितंजय धनुष और  पांचजन्य शंख तब कृष्ण 11-12 साल के थे। उज्जैन में गुरु सांदीपनि के आश्रम में पढ़ रहे थे। गुरु पुत्र दत्त का शंखासुर ने अपहरण कर लिया। कृष्ण उसे बचाकर लाए तो गुरु ने उन्हें अजितंजय धनुष भेंट किया।
अजितंजय धनुष
अजितंजय धनुष

  •  शंखासुर वध से कृष्ण को शंख मिला, जिसे सांदीपनि ने पांचजन्य नाम दिया। 
पांचजन्य शंख
पांचजन्य शंख
  • सुदर्शन चक्रकृष्ण 12-13 साल थे, तब परशुराम से मिलने उनकी जन्मस्थली जानापाव (इंदौर) गए थे। वहां परशुराम ने कृष्ण को उपहार में सुदर्शन चक्र दिया। शिव ने यह चक्र त्रिपुरासुर वध के लिए बनाया था और विष्णु को दे दिया था। कृष्ण के पास आने के बाद यह उनके पास ही रहा। 
सुदर्शन चक्र
सुदर्शन चक्र

  • स्रोत :  श्री कृष्ण लीला (वनमाली) 

About Hind Communication

Hind Communication
Recommended Posts × +

0 Comments:

Post a Comment